Follow by Email

Friday, November 2, 2012

“तेरी यादें”

एक इंतज़ार का रहनूमा छोड़ जाती हैं
तेरी यादें ।
वक़्त की बिखरीं ख़ामोशियों में 
एक नयी सदा के निशाँ छोड़ जाती हैं 
तेरी यादें ।


तू है या नहीं, इस वहम में,
मुझे मुझसे ही दूर ले जाती है,
तेरी यादें ।
रह-रह के ज़ेहन में सिलवटें उठती है,
इन तनहाइयों का सबब दे जाती है,
तेरी यादें ।

ख़ामोश हूँ अब भी,
इन पुलिंदों की तामील में अब भी,
कुछ स्याहियों सी मचलउठतीं हैं,
इन पन्नो पर तेरी यादें ।

हर दफ़ा की तरह वही अर्ज़ हैं
मेरे लव्ज़ों पर,
इक ख़ुदगर्ज़ सा अहसास 
छोड़ जातीहै तेरी यादें  ।
वक़्त बेवक्त परेशान हूँ मैं ज़िंदगी में 
मन में, इक जीने की 
वजह छोड़ जाती हैं तेरी यादें ।

लहरों तले जीना आदत हैं समन्दर की,
मेरे जिस्म में तूफ़ान के निशाँ छोड़ जाती है 
तेरी यादें ।
जब भी मिलता हूँ महक़दों में तुझसे
इन लवों पे कुछ सिलवटें छोड़ जाती हैं
तेरी यादें ।

ये रात गुज़रने पर आयेंगी तूँ
इस क़ब्र पे ऐसी ही उम्मीद की 
रोशनी छोड़ जाती हैं, तेरी यादें ।
कुछ पल मेरी हसरतों के छोड़ जाती है तेरी यादें ।

इस क़ब्र-ए-गुलिस्ताँ से क्या फ़िक्र करूँ तेरी 
कुछ कश-म-कश भरी रातें छोड़ जाती हैं,
ये तेरी आहट भरी तेरी यादें ।

इस दो गज़ की ज़मीं पर दो फ़ूल खिलें हैं,
इनकी महक में, इक तूफ़ान सी,
सुलग जाती हैं तेरी यादें ।

- रोशन यादव

Read More

Thursday, November 1, 2012

“मेरी हमसफ़र, मेरी हैरत“


कोरे काग़ज़ की सिलवटों पे,
एक शाम लिखकर तन्हाइयों से जलाया है
आज तो पैमानों की बंदिश ने भी,
हदों के पार तक पिलाया है ।
धड़कनों पे लिखकर नाम उसका
कश-म-कश से जलाया है ।

इक तपिश ने नाम ले कर उसका
                                                          महक़दों की दहलीज़ तक सताया है ।
पहलू की पहली किरन से लेकर
अंधेरो की आख़िरी बूँद तक,
तेरा हमसफ़र बनने की ख़्वाहिश में जिया 
वक़्त की आग ने इन ख़यालों को 
चुन-चुन कर जलाया है ।

इक वक़्त की तामील में, 
पैमाने लिये महक़दे पहुँचा,
शाकी  ने हैरत से कहा, कोई नया ज़ालिम 
फिर से टूट कर आया

- रोशन यादव
Read More